चंपत राय ने बताई वजह क्यों आडवाणी और जोशी को नहीं दिया गया भूमिपूजन में शामिल होने का निमंत्रण

उन्होंने कहा कि सभी निमंत्रण प्राप्त करने वालों को भूमि पूजन प्रांगण में सुबह 10:30 बजे तक आ जाना अनिवार्य है। इसके बाद किसी को भी किसी भी कीमत पर प्रवेश नहीं दिया जाएगा। सभी को प्रधानमंत्री के आगमन के दो घंटे पहले तक पहुंचना होगा।

Avatar Written by: August 3, 2020 8:06 pm

अयोध्या। श्री रामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र के महासचिव चंपत राय ने कहा कि कोविड-19 के प्रोटोकॉल के साथ ही प्रधानमंत्री की सुरक्षा को देखते हुए सुरक्षा व्यवस्था काफी सख्त रहेगी। सभी निमंत्रण प्राप्त लोगों को यहां सुबह 10:30 बजे तक आना अनिवार्य है। इसके बाद प्रवेश नहीं मिलेगा। श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय के साथ सदस्य स्वामी गोविन्ददेव गिरी तथा डा. अनिल मिश्र ने मीडिया को संबोधित किया।

Champat Rai

इस दौरान चंपत राय ने बताया कि नब्बे साल से ज्यादा उम्र के लोग कैसे आएंगे। कोरोना महामारी के दौरान जहां ज्यादा बुजुर्गों को घर में रहने की सलाह दी जा रही है वहीं दूसरी ओर आखिर उन्हें किस आधार में राम मंदिर भूमि पूजन कार्यक्रम में शामिल होने का निमंत्रण दे सकते हैं। चपंत राय ने आगे कहा कि आडवाणी जी कैसे आएंगे, परासरन जी कैसे आएंगे, चातुर्मास की व्यवस्था वालो के नाम हमने हटाये हैं। वहीं कल्याण सिंह से कहा गया है कि जब भीड़ कम हो तब अयोध्या आएं।

Lal-krishna-Advani-and-Murli-Manohar-Joshi

उन्होंने कहा कि सभी निमंत्रण प्राप्त करने वालों को भूमि पूजन प्रांगण में सुबह 10:30 बजे तक आ जाना अनिवार्य है। इसके बाद किसी को भी किसी भी कीमत पर प्रवेश नहीं दिया जाएगा। सभी को प्रधानमंत्री के आगमन के दो घंटे पहले तक पहुंचना होगा। उन्होंने कहा कि जिन लोगों को आमंत्रित किया गया है उनको कार्ड मिल जाएगा। इस कार्ड के आधार पर कोई दूसरा व्यक्ति उनकी जगह नहीं आ सकता है। इसके साथ ही उन्होंने बताया कि कोई वाहन पास जारी नहीं किया गया है। वाहनों को कार्यक्रम स्थल से दूर ही रखा जाएगा।

चंपत राय ने बताया कि आरएसएस प्रमुख मोहन जी भागवत, सुरेश भैया जोशी और अन्य पदाधिकारी रात्रि तक आ जाएंगे। चंपत राय ने कहा, “हमारे देश की आध्यात्मिक परंपराओं का पालन करते हुए 135 संतों को आमंत्रित किया गया है। इसमें नेपाल से भी संत आएंगे। नेपाल के जानकी मंदिर के महंत भी आएंगे। हमने संतों को बुलाया है। संत महात्मा मिलाकर करीब पौने दो सौ लोग आमंत्रित हैं। हमने इकबाल अंसारी को न्योता दिया है जबकि पद्मश्री मोहम्मद शरीफ को भी आमंत्रित किया है। अनेक लोग साधुओं को दलित कहते हैं। यह बेहद निंदनीय है।”

Ayodhya

उन्होंने कहा, “हमने निमंत्रण पत्र छपाया है जिस पर एक सिक्योरिटी कोड है। निमंत्रण पत्र पर आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत, गवर्नर आनंदीबेन पटेल व मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के नाम का अंकन है। कार्ड पर अंकित नंबर और नाम क्रास चेक होगा। आज उन कार्डो का अयोध्या में वितरण शुरू कर दिया गया है। इस परिसर में मोबाइल नहीं जाएगा। यहां पर कोई भी इलेक्ट्रनिक उपकरण नहीं जाएगा न ही कोई कैमरा जाएगा। निमंत्रितों को रंग महल के ही रास्ते कार्यक्रम स्थल में प्रवेश दिया जाएगा। कार्यक्रम लगभग 2:00 बजे तक चलने की संभावना है।”

champat rai

ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय ने कहा कि यहां पर रामलला के हरे रंग के वस्त्र को लेकर कई तरह की बातें होने लगी है। इतने भव्य कार्यक्रम में भी लोग राजनीति से बाज नहीं आ रहे हैं। भगवान हरे रंग के कपड़े पहनेंगे इसको भी प्रधानमंत्री मोदी से जोड़ दिया गया है। यह विषय प्रधानमंत्री कार्यालय का नहीं है। न ही इसका मुख्यमंत्री से संबंध है और ना ही ट्रस्ट से। शायद लोगों में जानकारी का अभाव है। हरा रंग तो समृद्धि का प्रतीक है। रंग के ऊपर चर्चा करना तो चर्चा करने वाली की बुद्धि का दिवालियापन है।