केजरीवाल ने पूछा घंटों बाद भी वोटिंग का फाइनल प्रतिशत जारी क्यों नहीं किया, चुनाव आयोग ने दिया ये जवाब

दिल्ली विधानसभा चुनाव के लिए मतदान 8 फरवरी को हो चुका है। हालांकि अभी तक चुनाव आयोग ने वोटिंग पर्सेंट जारी नहीं किया था।

Avatar Written by: February 9, 2020 7:58 pm

नई दिल्ली। दिल्ली विधानसभा चुनाव के लिए मतदान 8 फरवरी को हो चुका है। हालांकि अभी तक चुनाव आयोग ने वोटिंग पर्सेंट जारी नहीं किया था। इसको लेकर आम आदमी पार्टी सवाल खड़े कर रही है। इस मामले में अरविंद केजरीवाल और आप नेता संजय सिंह चुनाव आयोग की तरफ से आंकड़े जारी नहीं करने को लेकर सवाल कर रही है तो चुनाव आयोग की तरफ से भी इनको जवाब दे दिया गया है।Election Commission Delhi

नजीतों से पहले आम आदमी पार्टी ने चुनाव आयोग पर हमला बोला है। आप ने सवाल करते हुए कहा है कि वोटिंग के घंटों बाद भी चुनाव आयोग ने वोटिंग का प्रतिशत जारी क्यों नहीं किया है। बता दें, दिल्ली विधानसभा चुनाव में शनिवार को शाम छह बजे तक 57.06 प्रतिशत मतदान दर्ज किया गया था। वहीं रात 10.30 बजे तक 61.46% मतदान हुआ। लेकिन एक फाइनल फिगर सामने नहीं आया है।kejriwal sisodia

आप के संयोजक और दिल्ली से सीएम अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट करते हुए कहा कि यह निश्चित ही हैरान करने वाला है। चुनाव आयोग क्या कर रहा है? मतदान के कई घंटों बाद भी चुनाव आयोग वोट प्रतिशत जारी क्यों नहीं कर रहा है।


AAP नेता संजय सिंह ने कहा, “कल दिल्ली के चुनाव संपन्न हुए, 70 साल के इतिहास में पहली बार ऐसा हुआ होगा कि चुनाव आयोग ये बताने को तैयार नहीं कि कितने प्रतिशत मतदान हुआ। इसका मतलब कहीं कुछ दाल में काला है, अंदर ही अंदर कोई खेल चल रहा है।” उन्होंने इसको लेकर दो वीडियो भी सोशल मीडिया पर जारी किया और चुनाव आयोग के पैसले पर सवाल खड़ा किया।


वहीं केजरीवाल के हमले के बाद चुनाव आयोग ने जवाब दिया है। चुनाव आयोग ने कहा कि डेटा एंट्री का काम पूरा होने पर फाइनल आंकड़े जारी किए जाएंगे। चुनाव आयोग ने कहा कि रविवार देर शाम तक मतदान के फाइनल आंकड़े जारी कर दिए जाएंगे। इसके बाद दिल्ली चुनाव आयोग ने इस चुनाव के फाइनल आंकड़े जारी करते हुए बताया कि दिल्ली चुनाव में 8 फरवरी को 62.59% वोट पड़े।


इसके साथ ही चुनाव आयोग की तरफ से ईवीएम के साथ छेड़छाड़ की बात का भी जवाब दिया गया। प्रेस कांफ्रेंस में दिल्ली के मुख्य निर्वाचन अधिकारी रणबीर सिंह ने बताया कि मतदान डेटा रिटर्निंग अधिकारियों द्वारा प्रस्तुत किया जाता है जो रात भर व्यस्त थे, फिर वे जांच में व्यस्त हो गए। इसमें थोड़ा समय लगा है लेकिन, डेटा जारी करने में, सटीकता सुनिश्चित करने के लिए यह बहुत महत्वपूर्ण है।

Support Newsroompost
Support Newsroompost