दिल्ली हिंसा पर पीएम नरेंद्र मोदी का ट्वीट- दिल्लीवासियों से की शांति की अपील

इस मामले पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पहली बार ट्वीट करते हुए दिल्ली की जनता से शांति बनाए रखने की अपील की है। प्रधानमंत्री ने ट्वीट किया है कि दिल्लीवासियों से शांति की अपील करता हूं।

Avatar Written by: February 26, 2020 2:20 pm

नई दिल्ली। नागरिकता संशोधन कानून को लेकर जारी विरोध प्रदर्शन के बीच जाफराबाद के आसपास हिंसा को लेकर जहां एक तरफ देश के सभी पार्टियों के नेताओं की तरफ से शांति बनाए रखने की अपील की जा रही है वहीं दूसरी तरफ इस मामले में सेना के जवानों को प्रभावित क्षेत्र में उतार दिया गया है। हालात को सामान्य बनाए रखने के लिए जवानों की तरफ से लगातार फ्लैग मार्च किया जा रहा है।delhi violence updates

वहीं इस मामले पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पहली बार ट्वीट करते हुए दिल्ली की जनता से शांति बनाए रखने की अपील की है। प्रधानमंत्री ने ट्वीट किया है कि दिल्लीवासियों से शांति की अपील करता हूं। दिल्ली के लोग शांति आर व्यवस्था बनाए रखें। सरकार की नजर दिल्ली के हालत पर बनी हुई है।PM Narendra Modi

इस मामले पर प्रधानमंत्री मोदी ने लोगों से अपील करते हुए कहा कि आप शांति और सौहार्द बनाए रखें। सरकार लगातार कोशिश कर रही है जल्द ही हालात सामान्य होंगे।

पीएम मोदी ने ट्वीट कर लोगों से शांति बनाए रखने की अपील की है। उन्होंने कहा, ‘शांति और सदभाव हमारा स्वभाव है। मैं दिल्ली के भाइयो, बहनो से शांति और भाईचारे की अपील करता हूं। जल्दी से जल्दी शांति और स्थिति को सामान्य होना जरूरी है।’

पीएम मोदी ने एक अन्य ट्वीट में कहा कि उन्होंने दिल्ली के हालात का जायजा लिया है। उन्होंने कहा, ‘दिल्ली के विभिन्न हिस्सों की स्थिति का पूरा जायजा लिया है। पुलिस और अन्य एजेंसियां स्थिति सामान्य बनाने के लिए काम कर रही है।’

इससे पहले दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट किया, ‘मैं पूरी रात लोगों के संपर्क में रहा हूं। स्थिति काफी चिंताजनक है। पुलिस अपने सभी प्रयासों के बावजूद हालात को नियंत्रित करने और लोगों का आत्मविश्वास बढ़ाने में असमर्थ रही है। सेना को तुरंत बुलाया जाए और बाकी प्रभावित इलाकों में कर्फ्यू लगाया जाए। इसके लिए मैं गृह मंत्री अमित शाह को एक पत्र लिख रहा हूं।’

बता दें कि उत्तर-पूर्वी दिल्ली के जाफराबाद, मौजपुर-बाबरपुर और चांद बाग इलाके में हुई हिंसा में मरने वालों की संख्या बढ़कर 20 हो गई है।