योगी सरकार ने सपा नेता आजम खान को दिया बड़ा झटका, की बड़ी कार्रवाई

Rampur: उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) की योगी आदित्यनाथ सरकार ने समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) के सांसद आजम खान को बड़ा झटका दिया है। दरअसल सपा नेता की जौहर ट्रस्ट (Jauhar Trust) की 1400 बीघा जमीन अब यूपी सरकार के नाम दर्ज हो गई है।

Avatar Written by: January 19, 2021 4:32 pm
azam khan

नई दिल्ली। समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) के वरिष्ठ नेता और रामपुर से सांसद आजम खान की मुश्किलें थमने का नाम नहीं ले रही है।  उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) की योगी आदित्यनाथ सरकार ने सपा सांसद आजम खान को बड़ा झटका दिया है। दरअसल सपा नेता की जौहर ट्रस्ट (Jauhar Trust) की 1400 बीघा जमीन अब यूपी सरकार के नाम दर्ज हो गई है। राजस्व अभिलेखों में जमीन से जौहर ट्रस्ट का नाम काट कर यूपी सरकार के नाम पर चढ़ा दिया गया है। बता दें कि समाजवादी पार्टी के कद्दावर नेता आजम खान इस वक्त सीतापुर जेल (Sitapur Jail) में बंद है। आजम खान के ख़िलाफ 16 जनवरी 2021 को एडीएम प्रशासन जेपी गुप्ता के कोर्ट के आदेश के बाद यह कार्रवाई की गई है। गौरतलब है कि समाजवादी पार्टी की सरकार में जौहर ट्रस्ट ने यह जमीन कुछ शर्तों के साथ खरीदी थी, जिस पर आज जौहर यूनिवर्सिटी बनी है। आरोप है कि जमीन खरीदने के बाद शर्तों का पालन नहीं किया गया।

jauhar university

जौहर विश्विद्यालय की जमीन के मामले पर यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने योगी सरकार पर निशाना। उन्होंने कहा कि सरकार को इस तह की गलत भावना से काम नहीं करना चाहिए।  इन्हें राजनीति को उलझाना नहीं चाहिए। हमारी सरकार बनेगी तब इससे भी अच्छी और सुंदर यूनिवर्सिटी बनाएंगे।

अतिरिक्त जिला सरकारी वकील (एडीजीसी-सिविल) अजय तिवारी ने कहा, ‘ट्रस्ट ने सरकारी आदेश का उल्लंघन किया है, जिसमें उन्हें सिर्फ इस शर्त के आधार पर 12 एकड़ से अधिक जमीन की खरीद की अनुमति दी थी गई कि उन्हें सरकार द्वारा निर्धारित नियमों का पालन करना होगा।’

Azam Khan

उन्होंने कहा कि, कोर्ट ने इससे पहले सीतापुर जेल में बंद ट्रस्ट के अध्यक्ष आजम खान को नोटिस और समन जारी किया था, जिसे उन्होंने स्वीकार करने से इनकार कर दिया।

जनवरी 2020 में प्रयागराज में एक राजस्व बोर्ड की अदालत द्वारा सरकार को रामपुर में 12 दलित किसानों से जबरन खरीदी के लिए लगभग 100 बीघा जमीन के अधिग्रहण का आदेश दिया गया था। राजस्व बोर्ड ने पाया कि खान ने उप्र जमींदारी उन्मूलन और भूमि सुधार अधिनियम की धज्जियां उड़ा दी थी।

खान 500 एकड़ की जमीन पर फैले मुहम्मद अली जौहर विश्वविद्यालय के कुलपति हैं, जिसे 2006 में स्थापित किया गया था। वह इसे संचालित किए जाने वाले ट्रस्ट के अध्यक्ष भी हैं, जबकि उनकी पत्नी तंजीन फातिमा और दोनों बेटे ट्रस्ट के सदस्य हैं। आजम की बड़ी बहन ट्रस्ट की कोषाध्यक्ष हैं।

Support Newsroompost
Support Newsroompost