क्या चीन ने लद्दाख में भारतीय सेना पर सच में किया घातक माइक्रोवेब वेपन अटैक? पड़ताल में सामने आया ये सच

Microwave Weapon: माइक्रोवेब(Microwave Gun) गन के इस्‍तेमाल को लेकर द टाइम्‍स ने कहा है कि इसके इस्तेमाल के 15 म‍िनट बाद ही भारतीय सैनिक(Indian Army) उल्‍टी करने लगे और उन्‍हें चोटी को छोड़कर वापस जाना पड़ा।

Avatar Written by: November 18, 2020 3:33 pm
Fact checker ind china

नई दिल्ली। भारत और चीन के बीच चल रहे सीमा विवाद को देखते हुए कुछ विदेशी मीडिया में खबरें चलीं कि लद्दाख में चीन ने माइक्रोवेब हथियारों से हमला किया है। इन खबरों को विदेशी मीडिया के ट्विटर हैंडल से सोशल मीडिया पर वायरल होते देखा गया। वायरल हो रही खबर में कहा गया है कि, लद्दाख सीमा से भारतीय सेना को पीछे हटने के चीन ने माइक्रोवेव हथियार का इस्तेमाल किया है। विदेशी मीडिया में चल रही इस खबर को लेकर मंगलवार को भारतीय सेना और प्रेस सूचना ब्यूरो ने सफाई देते हुए इसे फर्जी बताया है। बता दें कि माइक्रोवेव हथियार का इस्तेमाल चीन इंसानों को तड़पने के लिए मजबूर कर सकता है। इसका प्रयोग काफी घातक होता है और इंसान इसकी चपेट में आने से तड़प-तड़प कर मरता है। ये हथियार इलेक्‍ट्रानिक और मिसाइल सिस्‍टम को भी तबाह कर सकता है।

Fake news Indi china border

बता दें कि माइक्रोवेब गन के इस्‍तेमाल को लेकर द टाइम्‍स ने कहा है कि इसके इस्तेमाल के 15 म‍िनट बाद ही भारतीय सैनिक उल्‍टी करने लगे और उन्‍हें चोटी को छोड़कर वापस जाना पड़ा। द टाइम्‍स ने तो यहां तक कह दिया कि दुनिया में इस तरह के हथियार का अपने शत्रु सेना पर इस्‍तेमाल का यह पहला उदाहरण है।

इस खबर के वायरल होने के बाद भारतीय सेना की तरफ से सफाई दी गई है। सेना का कहना है कि ये खबर पूरी तरह से फर्जी और बकवास है। भारतीय सेना ने अपने ट्वीट में कहा कि “कुछ अंतरराष्ट्रीय समाचार पोर्टलों ने भ्रामक खबरें प्रकाशित की हैं और लद्दाख में भारत-चीन सीमा स्टैंड से संबंधित आधारहीन दावों की सूचना दी है। यह फर्जी खबर है। ऐसी कोई घटना नहीं हुई है।”

भारतीय सेना के अलावा प्रेस इनफॉर्मेशन ब्यूरो ने भी चीनी हमलों के इस दावे को खारिज कर दिया है। आखिर में आपको बता दें कि पड़ताल में पाया गया है कि ये खबर पूरी तरीके से निराधार है। न्यूज साइट पर वायरल हो रही खबरों की जांच के बाद ये खबर पूरी तरह फर्जी है। सच ये है कि चीन ने भारतीय सैनिकों पर इस तरह के किसी भी प्रकार के हथियार का कोई प्रयोग नहीं किया है।