वायरल चेक

Fact Check: दरअसल, अभी हाल ही में सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे ट्वीट में बताया गया है कि तमिलनाडु के एक सरकारी स्कूल में एक छात्र को एक ईसाई शिक्षक ने महज इसलिए बेरहमी से पीटा, क्योंकि उसने रूद्राक्ष पहन रखा था।

पुलिस ने जम्मू कश्मीर में रहने वाले गैर कश्मीरी लोगों के लिए एडवाइजरी जारी की है। जम्मू कश्मीर पुलिस की तरफ से कहा गया हैकि सभी गैर कश्मीरी लोगों को सैन्य या फिर पुलिस ठिकानों पर सुरक्षित रखा जाये।

Varun gandhi: वरुण गांधी ने जब किसानों के लिए इंसाफ और दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की तो लोगों का ध्यान उनके ट्विटर अकाउंट पर गया। यहीं से वरुण गांधी को लेकर एक खबर सोशल मीडिया पर चलने लगी। खबर ये थी कि वरुण गांधी ने ट्विटर के बायो से 'बीजेपी' हटा लिया है।

Fact Check: इसी बीच आर्यन खान की एक तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है। कथित तौर पर तस्वीर में किंग खान के बेटे आर्यन के साथ दिख रहा शख्स एनसीबी अफसर बताया जा रहा है। तस्वीर में देखा जा सकता है कि जहां आर्यन खान ब्लू जीन्स, व्हाइट टी-शर्ट और रेड शर्ट के साथ नजर आ रहे हैं, वहीं उनके साथ मौजूदा शख्स व्हाइट शर्ट में दिख रहा है।

अमेरिकी दौरे के दौरान क्या पीएम मोदी की फजीहत हो गई? क्या पीएम मोदी को जो बाइडन ने गले मिलने से रोक दिया? क्या बाइडन की इस कृत्य से पीएम मोदी आहत हुए? ये कुछ कुछ ऐसे सवाल हैं, जो वास्तविक दुनिया में तो नहीं, लेकिन सोशल मीडिया की दुनिया में काफी चर्चा में हैं।

Fact Check: इंडियन एक्सप्रेस यूपी सरकार के विज्ञापन में कोलकाता के फ्लाईओवर की तस्वीर का इस्तेमाल करने के लिए माफी मांगी है। अखबार ने गलती को मानते हुए कहा कि अखबार के मार्केटिंग विभाग ने इस विज्ञापन को तैयार किया है।

Fact Check: वहीं इस तस्वीर की जब जांच पड़ताल की गई तो पाया गया है कि ये तस्वीर काफी पुरानी है। असल में यह साल 2016 में दिल्ली में तत्कालीन केंद्रीय कपड़ा मंत्री स्मृति ईरानी के नेतृत्व में बुनकरों की समस्या के संदर्भ में हुई एक मीटिंग के दौरान की है। इस मीटिंग में असदुद्दीन ओवैसी समेत कई सांसद मौजूद रहे थे।

Ratan Tata: सोशल मीडिया पर रतन टाटा को लेकर जिस तरह की फर्जी खबरे आई हैं, ये पहला मामला नहीं है। इससे पहले भी उन्हें लेकर कई खबरें उठ चुकी है। हालांकि कई खबरों पर वो जवाब दे देते हैं लेकिन कुछ पर वो ध्यान नहीं देते। कुछ समय पहले उन्हें लेकर सोशल मीडिया यूजर्स ने एक मांग की थी, जिसकी काफी चर्चा हुई थी।

Fact Check: कई कंपनियां घर से काम करने के अवसर दे रही हैं। वहीं अब एक साल बाद भी कई कार्यालय घर से ही काम करा रहे हैं। ऐसी स्थिति में, धोखाधड़ी के इरादे से झूठे मैसेज शुरू में असली लगेंगे। पीआईबी के फैक्ट चेक में कहा है ‘ये दावा फर्जी है. साथ ही भारत सरकार द्वारा ऐसी कोई घोषणा नहीं की गई है। किसी भी फर्जी लिंक पर क्लिक ना करें।’