वायरल चेक

UP Partition: सीएम योगी का पीएम मोदी, अमित शाह, और जेपी नड्डा से मुलाकात करना भी इस बात को जोर देता है। फिलहाल यूपी सरकार की तरफ से इस मैसेज को लेकर कोई पुष्टि नहीं की नही है।

Fact Check: इस लेटर में दावा किया जा रहा है कि गृह मंत्री ने सीएम योगी को कोरोना की दूसरी लहर में बिगड़ी स्थिति को संभालने को उठाए गए कदमों की तारीफ की है। इसके अलावा इसमें ये भी दावा किया गया है कि अमित शाह ने सीएम योगी को यूपी में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए जीत का मूल मंत्र भी दिया।

Fact Check: इसी तस्वीर के साथ छेड़छाड़ कर इसमें दीपिका मंडल की जगह नीता अंबानी का चेहरा लगा दिया गया। इस बारे में दीपिका मंडल के पति समर मंडल का बयान भी सामने आया है। समर मंडल ने इस बात की पुष्टि की है कि पीएम के साथ तस्वीर में दिखने वाली महिला उनकी पत्नी है। इस तस्वीर के साथ ये छेड़छाड़ पहली बार नहीं की गई है।

Fact Check: दरअसल लल्लनटॉप की तरफ से दावा किया गया कि केंद्र सरकार कोरोना के कारण अनाथ हुए बच्चों को लेकर झूठ बोल रही है। इसके साथ ही यह भी बताया गया कि केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने अनाथ बच्चों को लेकर जो आंकड़ा दिया है वह गुमराह करनेवाला है। मतलब आंकड़े में हेराफेरी के साफ संकेत दिख रहे हैं।

Fact Check: WhatsApp पर बनाए गए ग्रुप्स को लेकर भी कुछ नियम बताए जा रहे हैं, जिसमें मुताबिक उन्हें और अधिक जागरूक और सतर्क होने की बात कही जा रही है।

Fact Check: लेकिन क्या वाकई में वीडियो में दिखाई जा रही महिला भाजपा सांसद मेनका गांधी है। तो आपको सच्चाई बता दें कि ये महिला कांग्रेस नेता है जिनका नाम डॉली शर्मा है। वीडियो की जांच पड़ताल की गई तो वायरल वीडियो में दिख रही महिला डॉली शर्मा निकली।

Uttar Pradesh: बुधवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निजी दफ्तर ने अपने ट्विटर हैंडल से इस पूरे प्रकरण पर बड़ी जानकारी दी है। ट्वीट में जिस खबर का जिक्र किया गया है, उसके मुताबिक, ये तस्वीर 2 साल पुरानी मार्च 2018 की है।

Ayush Kadha: पीआईबी फैक्ट चेक ने अपने ट्वीट में लिखा है कि, "सोशल मीडिया पर शेयर किए जा रहे एक पोस्ट में दावा किया जा रहा है कि ‘आयुष काढ़ा’ पीने से कोरोना संक्रमित व्यक्ति तीन दिन के अंदर ठीक हो सकता है।"

Complete Lockdown in India: आपको बता दें कि देश में कोरोना के मामले अब भयावह होते जा रहे हैं, ऐसे में कई राज्यों में अपने अधिकार क्षेत्र का इस्तेमाल करते हुए अपने राज्य में लॉकडाउन की घोषणा जरूर की है