कोरोना पर अमेरिकी राष्ट्रपति का दावा, कहा साल के इस महीने तक उपलब्ध होगी वैक्सीन

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम् ने रविवार को कहा कि संयुक्त राज्य अमेरिका इस साल के अंत तक कोरोनावायरस की वैक्सीन बना लेगा।

Written by: May 4, 2020 1:43 pm

वॉशिंगटन। पूरी दुनिया कोरोना के कहर से कराह रही है। बड़े बड़े डेढ़ इस भयंकर महामारी की चपेट में आ चुके हैं। गरीब पाकिस्तान से महाशक्ति अमेरिका तक इस वायरस का शिकार हुए हैं। और दुनिया के कई वैज्ञानिक और कंपनियां इस कोविड-19 का इलाज ढूंढने की कोशिश में लगे हुए हैं। ये लोग दिन रात लैब के अंदर वैक्सीन की खोज में बिता रहे हैं। इस बीच अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम् ने रविवार को कहा कि संयुक्त राज्य अमेरिका इस साल के अंत तक कोरोना वायरस की वैक्सीन बना लेगा।

Donald Trump

वाशिंगटन डीसी के लिंकन मेमोरियल से प्रसारित होने वाले फॉक्स न्यूज के ‘टाउन हॉल’ शो में ट्रंप ने कहा, ‘हम बहुत आश्वस्त हैं कि हमारे पास साल के अंत तक वैक्सीन होगी।’ उन्होंने यह भी कहा कि वह सितंबर में स्कूलों और विश्वविद्यालयों को फिर से खोलने का आग्रह करेंगे।

trump

कोरोना वायरस के खिलाफ वैक्सीन के दावे तो किए जा रहे हैं लेकिन अभी तक कोई वैक्सीन किसी के हाथ नहीं आई है। अमेरिका और बाकी देशों के बीच COVID-19 के खिलाफ सबसे पहले वैक्सीन बना लेने की होड़ लगी हुई है।

ट्रम्प ने जोर देकर कहा कि वह खुश होंगे अगर कोई दूसरा देश अमेरिकी शोधकर्ताओं को दवा खोजने में मात दे दे। उन्होंने कहा ‘अगर यह कोई दूसरा देश होगा तो उनके लिए मेरा सलाम। मुझे इस बात से फर्क नहीं पड़ता, मैं बस ऐसी वैक्सीन चाहता हूं जो काम करती हो।’

Oxford University Corona Vaccine

ट्रम्प ने स्वीकार किया कि वे वैक्सीन को लेकर लगाए जा रहे कयासों पर खुद के सलाहकारों से भी ज्यादा आश्वस्त हैं। उन्होंने कहा कि ‘अब डॉक्टर कहेंगे कि आपको ऐसा नहीं कहना चाहिए, लेकिन मैं तो वही कहूंगा जो मैं सोचता हूं।’

एक रिसर्च में तेजी से हो रहे ह्यूमन ट्रायल के दौरान खतरों के बारे में पूछे जाने पर ट्रंप ने कहा कि ‘ वो वॉलंटियर हैं जो खुद आगे आए हैं, वो जानते हैं कि वो क्या कर रहे हैं।

vaccinecoronavirus

गौरतलब है कि अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप लगातार चीन पर हमलावर रुख अपनाए हुए हैं। लेकिन इसके साथ ही अमेरिकी स्वास्थ्य मंत्रालय अपने नागरिकों को बचाने के प्रयास भी कर रहा है। जिसके लिए लगातार रिसर्च की जा रही हैं।