कोरोना के इलाज के लिए इटोलीजुमैब इंजेक्शन को मिली मंजूरी लेकिन होगी ये शर्त

डीसीजीई के एक अफसर ने न्यूज एजेंसी से कहा- भारत में कोविड-19 के मरीजों पर इस इंजेक्शन का परीक्षण किया गया था। इसके नतीजे काफी अच्छे मिले।

Avatar Written by: July 11, 2020 2:57 pm

नई दिल्ली। कोरोना का प्रकोप तेजी के साथ बढ़ता जा रहा है, जिस रफ्तार के साथ कोरोना बढ़ रहा है, उसकी रफ्तार से इसके वैक्सीन की खोज भी जारी है। इस बीच त्वचा से संबंधित बीमारी के प्रयोग की जाने वाली इटोलीजुमैब इंजेक्शन को ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (डीसीजीआई) ने कोरोनावायरस के इलाज के लिए शर्त के साथ मंजूरी दे दी है।

bcg vaccine

आपको बता दें कि इस इंजेक्शन का इस्तेमाल उन पेशेंट्स पर किया जा सकेगा जो संक्रमित होने के बाद मेडिकल टर्म एआरडीएस से पीड़ित हैं। इस स्थिति में सांस संबंधी दिक्कतें भी होती हैं। ड्रग रेग्युलेटर डॉक्टर वीजी सोमानी ने शुक्रवार को इस इंजेक्शन के इस्तेमाल को हरी झंडी दे दी। यानी अब इसका इस्तेमाल कोविड-19 के पेशेंट्स के इलाज में किया जा सकेगा। एआरडीएस के मरीजों को लंग्स में दिक्कत होती है। इसकी वजह से सांस लेना मुश्किल हो जाता है और कई बार बहुत तेज जलन भी होती है।Injection

गौरतलब है कि इटोलीजुमैब इंजेक्शन बायोकॉन लिमिटिड द्वारा तैयार किया गया है। इसका इस्तेमाल प्लेग या सोरायसिस के इलाज में किया जाता है। पिछले साल ही इसे अप्रूवल मिला था।

vaccinecoronavirus

 

डीसीजीई के एक अफसर ने न्यूज एजेंसी से कहा- भारत में कोविड-19 के मरीजों पर इस इंजेक्शन का परीक्षण किया गया था। इसके नतीजे काफी अच्छे मिले। हमारी टीम में पल्मोनॉलिजिस्ट, फॉर्मालॉजिस्ट और एम्स के मेडिसिन एक्सपर्ट शामिल थे। हालांकि, डॉक्टरों को इसका इस्तेमाल करने के पहले मरीज को इसकी जानकारी देनी होगी। इसके लिए उसकी मंजूरी भी लेनी होगी।