विकास दुबे एनकाउंटर पर अखिलेश ने उठाए सवाल, तो जनता ने लगा दी क्लास

अखिलेश ने अपने ट्वीट में उस वाहन के दुर्घटनाग्रस्त होने पर सवाल उठाए हैं, जिसमें विकास दुबे को उज्जैन से कानपुर लाया गया था।

Written by: July 10, 2020 9:46 am

नई दिल्ली। कानपुर में 8 पुलिसकर्मियों की हत्या के मामले में मुख्य आरोपी गैंगस्टर विकास दुबे आज कानपुर में एक मुठभेड़ में मारा गया है। दरअसल उज्जैन से गिरफ्तार कर कानपुर ला रही एसटीएफ की गाड़ी कानपुर में दुर्घटनाग्रस्त हुई। पुलिस के अनुसार इसी दौरान विकास ने पुलिसकर्मी की पिस्टल छीनकर भागने की कोशिश की और जवाबी फायरिंग में वो मारा गया।

Vikas Encounter

वहीं विकास दुबे के पुलिस एनकाउंटर में मारे जाने के बाद विपक्ष ने उत्तर प्रदेश सरकार एवं पुलिस पर सवाल उठाना शुरू कर दिया है। यूपी के पूर्व सीएम  और सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने ट्वीट कर पुलिस और सरकार की कार्यप्रणाली पर सवालिया निशान लगाया है। अखिलेश ने अपने ट्वीट में उस वाहन के दुर्घटनाग्रस्त होने पर सवाल उठाए हैं, जिसमें विकास दुबे को उज्जैन से कानपुर लाया गया था।

Akhilesh Yadav

अखिलेश यादव ने ट्वीट कर लिखा, ‘दरअसल ये कार नहीं पलटी है, राज़ खुलने से सरकार पलटने से बचाई गयी है।’

 

विकास दुबे के एनकाउंटर पर सवाल खड़े करना सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव को महंगा पड़ गया। यूजर्स ने अखिलेश यादव की जमकर क्लास लगा डाली।

विकास दुबे के एनकाउंटर को लेकर कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने भी यूपी सरकार और पुलिस पर निशाना साधा है। उन्होंने ट्वीट में लिखा, अपराधी का अंत हो गया, अपराध और उसको सरंक्षण देने वाले लोगों का क्या?

कानपुर पुलिस पुलिस अधीक्षक दिनेश कुमार ने बताया, “विकास दुबे जो कि 5 लाख रुपए का वांछित अभियुक्त है। उसे उज्जैन से कानपुर गिरफ्तार कर लाया जा रहा था। तभी कानपुर के भौंती के पास पुलिस का वाहन दुर्घटना होकर पलट गया। जिसमें उसमें बैठे अभियुक्त और पुलिसकर्मी घायल हो गये। इसी दौरान विकास दुबे पुलिस कर्मी की पिस्टल छीनकर भागने लगा। पुलिस टीम ने उसका पीछा करके आत्मसमर्पण के लिए कहा किन्तु वह नहीं माना और पुलिस पर फायरिंग करने लगा। पुलिस ने भी आत्मरक्षा के लिए जवाबी फायरिंग की जिसमें वह घायल हो गया। इजाज के दौरान उसकी अस्पताल में मौत हो गयी।”

कानपुर के बिकरु गांव में दो जुलाई की रात को आठ पुलिसकर्मियों की हत्या कर देशभर में सुर्खियों में आया उत्तर प्रदेश का मोस्ट वांटेड गैंगस्टर विकास दुबे गुरुवार सुबह उज्जैन के महाकाल मंदिर परिसर में मिला था। छह दिन की तलाश के बाद मध्य प्रदेश पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया। हालांकि, जिस कुख्यात अपराधी को लेकर कई राज्यों की पुलिस अलर्ट थी, उसकी गिरफ्तारी उतनी ही नाटकीय ढंग से हुई।

ज्ञात हो कि कानपुर जिला मुख्यालय से करीब 38 किमी दूर चौबेपुर थाना क्षेत्र के गांव बिकरू में गत शुक्रवार (2-3 जुलाई की रात) को विकास दुबे को पकड़ने के लिए पुलिस टीम पहुंची थी। इस दौरान कुख्यात विकास और उसके साथियों ने हमला कर दिया था, जिसमें सीओ, एसओ सहित आठ पुलिसकर्मी शहीद हो गए थे।