दिल्ली हिंसा में हुई 10 लोगों की मौत, 130 से ज्यादा अस्पताल में भर्ती

उत्तरी-पूर्वी दिल्ली में सीएए के विरोधी और समर्थकों के बीच हिंसा थमने का नाम नहीं ले रही है। इसी वजह से गुरु तेग बहादुर अस्पताल पहुंचाए जा रहे घायलों की संख्या में लगातार इजाफा हो रहा है। घायलों का इलाज कर रहे एक डॉक्टर ने बताया कि 15 से ज्यादा लोग गोली लगने से घायल हुए हैं।

Avatar Written by: February 25, 2020 5:43 pm

नई दिल्ली। उत्तरी-पूर्वी दिल्ली में सीएए के विरोधी और समर्थकों के बीच हिंसा थमने का नाम नहीं ले रही है। इसी वजह से गुरु तेग बहादुर अस्पताल पहुंचाए जा रहे घायलों की संख्या में लगातार इजाफा हो रहा है। घायलों का इलाज कर रहे एक डॉक्टर ने बताया कि 15 से ज्यादा लोग गोली लगने से घायल हुए हैं।

delhi_violancedelhi_violance

जीटीबी अस्पताल ने मंगलवार तक 10 मौतों की पुष्टि की है। वहीं अस्पताल के अतिरिक्त मेडिकल अधीक्षक डॉ. राजेश कालरा ने कहा, “हमारे यहां अबतक 93 घायल लोग आए हैं। इतना ही नहीं नागरिकता कानून संशोधन (CAA) को लेकर शुरू हुए बवाल से उत्तर पूर्वी दिल्ली में हालात इतने बिगड़ गए हैं कि एक महीने के लिए धारा 144 लगा दी गई है। मौजपुर और ब्रह्मपुरी इलाके में आज (मंगलवार) भी पत्थरबाजी हुई। दिल्ली हिंसा में अबतक मरने वाले 10 लोगों में हेड कॉन्स्टेबल रतनलाल भी शामिल हैं। नॉर्थ ईस्ट दिल्ली हिंसा में अब तक 135 लोग घायल हैं।

delhi violence updates

नॉर्थ ईस्ट दिल्ली में हालात तनावपूर्ण हैं, इलाके में बड़ी तादाद में पुलिस बल तैनात है। मंगलवार सुबह-सुबह पांच मोटरसाइकिल को आग के हवाले कर दिया गया। वहीं देर रात से सुबह तक मौजपुर और उसके आस-पास इलाकों में आगजनी के 45 कॉल आए, जिसमें दमकल की एक गाड़ी पर पथराव किया गया, जबकि एक दमकल की गाड़ी को आग के हवाले कर दिया गया।

AMIT SHAH ARVIND KEJRIWAL

वहीं केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने हालात पर चर्चा करने के लिए मंगलवार को उच्चस्तरीय बैठक की। बैठक में पुलिस और क्षेत्र के विधायकों के बीच समन्वय मजबूत करने और अफवाहों के प्रसार को रोकने का संकल्प लिया गया। बैठक में शामिल होने के बाद मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया ने राजघाट का दौरा किया और शांति की अपील की।

दिल्ली हिंसा पर अब तक की 10 बड़ी बातें:

राजधानी दिल्ली के उत्तर पूर्वी जिले में जारी हिंसा में मरने वालों की संख्या बढ़ सकती है। अब तक इस हिंसा में 10 लोगों की मौत हो गई है, जिसमें एक पुलिसकर्मी भी शामिल है।

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया ने राजघाट पहुंचकर शांति की अपील की। केजरीवाल ने कहा, ‘पिछले दो दिनों से दिल्ली में हुई हिंसा से पूरा देश चिंतित है। जान और माल की हानि हुई है। यदि हिंसा बढ़ती है तो यह सभी को प्रभावित करेगी। हम सभी यहां गांधीजी को अपनी प्रार्थना अर्पित करने के लिए आए हैं, जो अहिंसा के अनुयायी थे।’

सुप्रीम कोर्ट दिल्ली में संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) को लेकर हाल ही में हुई हिंसा के मामले में प्राथमिकी दर्ज कराने की मांग करने वाली पूर्व मुख्य सूचना आयुक्त (सीआईसी) वजाहत हबीबुल्ला और अन्य की याचिका पर सुनवाई करने पर मंगलवार को तैयार हो गया। न्यायमूर्ति एस। के। कौल और न्यायमूर्ति के। एम। जोसफ की एक पीठ के समक्ष याचिका को तत्काल सुनवाई के लिए सूचीबद्ध किया गया था।

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने मंगलवार को कहा कि वह दिल्ली के कुछ हिस्सों के हालात को लेकर बेहद चिंतित हैं और इस संबंध में उन्होंने हिंसा प्रभावित इलाकों के सभी दलों के विधायकों के साथ आपात बैठक बुलाई।

दिल्ली हिंसा पर नवाब मलिक ने कहा कि 2-3 महीने से सीएए, एनआरसी को लेकर प्रदर्शन, हिंसा हो रही है, पूरी जिम्मेदारी केंद्र सरकार की है। सरकारी पक्ष के लोग भड़काऊ बयान देते हैं, गोली मारने की भाषा बोलते हैं। कपिल मिश्रा कहते हैं ट्रंप के जाने के बाद निपट लेंगे। इस तरह से लोकतंत्र में सरकारें काम नहीं करती।

दिल्ली पुलिस ने बताया कि नॉर्थ ईस्ट में अर्धसैनिक बलों की 35 कंपनियां तैनात की गई हैं। इसके साथ स्पेशल सेल, क्राइम ब्रांच और आर्थिक अपराध शाखा (EOW) के अधिकारी भी मौजूद है। दिल्ली के विभिन्न जिलों से स्थानीय पुलिस को भी बुलाया गया है।

दिल्ली में हिंसा की निंदा करते हुए कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी. चिदंबरम ने मंगलवार को कहा कि जनता असंवेदनशील तथा अदूरदर्शी नेताओं को सत्ता में पहुंचाने की कीमत चुका रही है। चिदंबरम ने कहा कि सीएए में संशोधन का परित्याग तत्काल प्रभाव से करना चाहिए। उन्होंने कहा कि सरकार को इस मामले में उच्चतम न्यायालय का फैसला आने तक सीएए को रोक देना चाहिए तथा सीएए-विरोधी प्रदर्शनकारियों की बात सुननी चाहिए।

केजरीवाल ने कहा कि बॉर्डर इलाकों में रहने वाले विधायकों ने कहा है कि दिल्ली में बाहर से लोग आ रहे हैं। ऐसे लोगों को रोकने की जरूरत है और संदिग्ध लोगों को गिरफ्तार किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि जो पुलिसबल तैनात किया गया है वह काफी कम है। दिल्ली के सीएम ने कहा कि हिंसा प्रभावित इलाकों में मंदिर और मस्जिदों से शांति बनाए रखने की अपील की जानी चाहिए।

उत्तर पूर्वी दिल्ली के घौंडा गांव में सोमवार रात को चली गोलियां, जिसमें राहुल नाम का युवक घायल हुआ है। युवक को इरविन अस्पताल में भर्ती कराया गया। वहीं, दो मकानों में आग लगाने का प्रयास हुआ और जमकर पथराव भी हुआ। लोग रात भर करते रहे पुलिस को फोन और नहीं पहुंची पुलिस कहा, नहीं है ज्यादा फोर्स।

दिल्ली में मंगलवार सुबह 8.24 बजे करावल नगर के एक टायर मार्केट में आग लगने की घटना सामने आई है। वहीं करावल नगर में रविवार को वाहनों में आग लगा दी गई।

 

 

 

Support Newsroompost
Support Newsroompost