Congress: लाल किले पर हुई घटना से शर्मिंदगी महसूस कर रहे रॉबर्ट वाड्रा भूल गए कि उनकी तस्वीर ने पूरे देश को शर्मिंदा कर दिया

Congress: अब सोशल मीडिया (Social Media) के जरिए इस मामले पर अपना गुस्सा जाहिर करने के ख्याल से रॉबर्ट वाड्रा (Robert Vadra) ने एक ट्वीट किया। इस ट्वीट में उन्होंने जो लाल किले पर हुआ उसको लेकर लिखा, बेहद दुःख और शर्मिंदगी। जिसमें उन्होंने भारत का मानचित्र भी लगाया है। यहां तक तो ठीक था क्योंकि गुस्सा तो लाजमी है शर्मिंदा होना भी जरूरी है क्योंकि जो कल हुआ वह देश को शर्मिंदा करनेवाला ही था।

Avatar Written by: January 27, 2021 7:25 pm
Priyanka Gandhi And Robert Vadra

नई दिल्ली। लाल किले पर किसान आंदोलन और ट्रैक्टर रैली के नाम पर कल जो देश को शर्मिंदगी का सामना करना पड़ा उसको लेकर पूरे देश में गुस्सा है। किसान आंदोलन कर रहे किसान संगठनों में भी इस घटना के बाद फूट पड़ गई है। राजनीतिक दल भी इस मुद्दे पर अपनी सियासत कर रहे हैं। वहीं सरकार अपने तरीके से इस पूरे मामले को हैंडल करने की कोशिश में लगी है। दिल्ली में अतिरिक्त पुलिस और अर्धसैनिक बलों की कंपनियां तैनात की गई हैं। मामले पर गृहमंत्री और पुलिस के आला अधिकारियों के साथ लगातार इस मामले पर मैराथन बैठक चल रही है। लेकिन इस सब के बीच यह पूरा देश मान रहा है कि कल जो घटना लाल किले पर घटी उसने पूरी दुनिया में भारत की छवि को नुकसान पहुंचाया।

Red Fort

अब सोशल मीडिया के जरिए इस मामले पर अपना गुस्सा जाहिर करने के ख्याल से रॉबर्ट वाड्रा ने एक ट्वीट किया। इस ट्वीट में उन्होंने जो लाल किले पर हुआ उसको लेकर लिखा, बेहद दुःख और शर्मिंदगी। जिसमें उन्होंने भारत का मानचित्र भी लगाया है। यहां तक तो ठीक था क्योंकि गुस्सा तो लाजमी है शर्मिंदा होना भी जरूरी है क्योंकि जो कल हुआ वह देश को शर्मिंदा करनेवाला ही था। लेकिन रॉबर्ट वाड्रा यह भूल गए कि इस आग में घी डालने का काम कांग्रेस पार्टी ने की है और वह इस पार्टी के अंतरिम अध्यक्ष के दामाद, प्रियंका वाड्रा के पति और राहुल गांधी के जीजा हैं।

रॉबर्ट वाड्रा इस ट्वीट में ऐसा गुनाह कर बैठे जो अक्षम्य है। उन्होंने जो भारत का नक्शा अपने ट्वीट में लगाया है उसमें से कश्मीर का नक्शा ही गायब है। लोगों ने इसके बाद सोशल मीडिया पर जमकर वाड्रा की क्लास लगानी शुरू कर दी। लोगों ने पूछा कि नक्शा गलत लगाया है या कश्मीर की जमीन भी पाकिस्तान को बेच दी ये बताओ। रॉबर्ट वाड्रा के द्वारा ट्वीट किए गए इस नक्शे से लद्धाख और कश्मीर पूरी तरह से गायब है।

Delhi: उपद्रव पर पुलिस की बड़ी कार्रवाई, 40 नेताओं पर FIR, योगेंद्र यादव का भी नाम शामिल

दिल्ली में गणतंत्र दिवस के मौके पर हुए तांडव को लेकर अब दिल्ली पुलिस सख्त मूड में नजर आ रही है। बता दें कि दिल्ली पुलिस ने अबतक इस मामले में 200 से भी अधिक दंगाइयों को गिरफ्तार कर चुकी है। बता दें दिल्ली के लाल किले पर एक धार्मिक झंडा लगाने की वजह से देशभर में लोगों के भीतर काफी आक्रोश देखने को मिल रहा है। वहीं लोग पुलिस की तरफ से सख्त कार्रवाई की मांग कर रहे हैं। बता इस घटना के अगले दिन दिल्ली पुलिस ने ताबड़तोड़ कार्रवाई करते हुए 40 नेताओं पर FIR  दर्ज कर ली है। बता दें कि इन 40 लोगों में उन लोगों के भी नाम शामिल हैं, जो किसान कानूनों को लेकर सरकार के साथ बातचीत कर रहे थे। बता दें कि दिल्ली पुलिस सूत्रों के मुताबिक योगेंद्र यादव सहित कई नेताओं के खिलाफ FIR दर्ज किए गए हैं।

Red Fort

बता दें कि दिल्ली पुलिस ने इन नेताओं पर ट्रैक्टर परेड को लेकर किए गए NOC के करार की अवहेलना का आरोप लगाया है। बता दें कि किसान नेताओं से दिल्ली पुलिस ने 30 से भी ज्यादा मुद्दों पर वादा लिया था। जिसमें ट्रैक्टर परेड को लेकर रूट भी फाइनल था। लेकिन जब ट्रैक्टर रैली निकली तो बताए गए रूट का पालन नहीं किया गया और लोग ट्रैक्टरों के साथ दिल्ली के अंदर घुस गए। उसके बाद उनके द्वारा दिल्ली में जमकर तांडव मचाया गया।

ANI Hindi

बता दें कि इस घटना के बाद अब दिल्ली पुलिस ने सख्त कार्रवाई करते हुए किसान नेताओं को जिम्मेदार मानते हुए सरकार के साथ बात कर रहे किसान नेताओं पर FIR दर्ज की है। गौरतलब है कि इनमें से नांगलोई थाने में जो एफआईआर दर्ज है उसमें न सिर्फ डकैती की धारा लगाई गई है बल्कि उन 40 किसान नेताओं के नाम भी एफआईआर में शामिल हैं जो सरकार के साथ वार्ता के लिए विज्ञान भवन जाते थे। इसी एफआईआर में योगेंद्र यादव का भी नाम है।

Delhi police lal kila

वहीं इस मामले में दिल्ली पुलिस की तरफ से जो जानकारी मिली है, उसके अनुसार 50 से ज्यादा लोगों को उपद्रव के चलते गिरफ्तार भी कर लिया गया है। नांगलोई पुलिस ने एफआईआर में डकैती की धारा इसलिए जोड़ी है क्योंकि कुछ उपद्रवी नांगलोई में पुलिस से आंसू गैस के गोले भी छीन ले गए थे। वहीं एक रिपोर्ट की मानें तो 26 जनवरी को हुए दिल्ली के दंगों में 300 पुलिस जवान घायल हुए हैं। इस बीच दिल्ली में आज सुरक्षा कड़ी कर दी गई है। लालकिला को छावनी में तब्दील कर दिया गया है। वहीं आईटीओ में बस और बैरिकेड लगाकर रास्ता ब्लॉक किया गया है। वहीं सिंघु बॉर्डर भी कड़ा पहरा है।

Support Newsroompost
Support Newsroompost