Connect with us

देश

India-China Tension: LAC पर चीन ने फिर बढ़ाईं गतिविधियां, मुंहतोड़ जवाब देने के लिए तैयार भारतीय सेना

हाल ही में भारतीय सेना और भारत-तिब्बत सीमा पुलिस के जवानों ने हिमाचल प्रदेश में एलएसी के करीब बड़े पैमाने पर युद्धाभ्यास किया है। इसके अलावा सभी आधुनिक हथियार और टैंक वगैरा भी ऐसी जगहों पर रखे गए हैं कि कम वक्त में उन्हें चीन की सेना के सामने तैनात किया जा सके।

Published

on

indian army

नई दिल्ली। करीब 2 साल पहले चीन ने कोरोना की आड़ में लद्दाख के भारतीय इलाकों पर कब्जा करने की कुटिल चाल चली थी। उस चाल को हमारे जवानों ने पूरी तरह नाकाम कर दिया था। गलवान घाटी में भारतीय सेना के कर्नल महेश बाबू और उनके 19 साथियों ने सर्वोच्च बलिदान देकर देश की सीमा की रक्षा की थी। उस संघर्ष में 40 से ज्यादा चीन के सैनिक मारे गए थे। इसके बाद चीन कुछ दिनों तक बिना हरकत किए रहा। अब एक बार फिर वो अपनी ताकत दिखा रहा है। एलएसी के पार चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी PLA की गतिविधियां बढ़ती दिख रही हैं। इसे देखते हुए भारतीय सेना सतर्क है और पड़ोसी देश को मुंहतोड़ जवाब देने की तैयारी में भी है।

china and india

भारतीय सेना ऐसी तैयारी कर रही है कि अगर चीन ने जंग थोपने की कोशिश की, तो उसे मुंहतोड़ जवाब दिया जाए। सूत्रों के मुताबिक लद्दाख में दौलत बेग ओल्डी और श्योक होते हुए नई सड़क को तेजी से बनाया जा रहा है। इसके अलावा लद्दाख से अरुणाचल तक एलएसी के सभी हिस्सों में सेना की बड़े पैमाने पर तैनाती की गई है। हाल ही में भारतीय सेना और भारत-तिब्बत सीमा पुलिस के जवानों ने हिमाचल प्रदेश में एलएसी के करीब बड़े पैमाने पर युद्धाभ्यास किया है। इसके अलावा सभी आधुनिक हथियार और टैंक वगैरा भी ऐसी जगहों पर रखे गए हैं कि कम वक्त में उन्हें चीन की सेना के सामने तैनात किया जा सके।

china

भारत इसके अलावा रूस से हासिल एस-400 मिसाइल प्रतिरोधक प्रणाली को भी सक्रिय कर चुका है। अब तक रूस से इसके 2 यूनिट आ चुके हैं। एक को पहले ही तैनात कर दिया गया था। दूसरे को भी जल्दी ही तैनात किया जाने वाला है। इससे किसी भी तरह की मिसाइल को मार गिराने में आसानी होगी। जापान में क्वॉड की कल बैठक है। इसमें शिरकत करने पीएम नरेंद्र मोदी भी पहुंचे हैं। माना जा रहा है कि चीन के बारे में वहां वो बातचीत करेंगे।

Advertisement
Advertisement
Advertisement