“हैलो, मैं सिंधिया बोल रहा हूं” इतने में गरमाई मध्य प्रदेश की सियासत, कांग्रेस खेमे में बेचैनी

ज्योतिरादित्य सिंधिया के फोन कॉल ने राज्य की सियासत गरमा दी है और कांग्रेस पार्टी को हमलावर होने का मौका दे दिया है।

Written by: April 28, 2020 10:03 pm

नई दिल्ली। हाल ही में भाजपा में शामिल हुए ज्योतिरादित्य सिंधिया कोरोनावायरस महामारी से जूझ रहे प्रदेश को उबारने में सरकार के साथ कंधे से कंधा मिलाकर सहयोग कर रहे हैं वहीं वह आगामी चुनाव की तैयारी में भी लगे हैं। एक ओर जहां मध्य प्रदेश सरकार और पूरे प्रशासनिक अमले के साथ सिंधिया कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के काम में लगे हैं, वहीं सिंधिया अपने कार्यकर्ताओं को फोन कर चुनाव में मदद भी मांग रहे हैं। सिंधिया को पता है कि सरकार को मजबूत बनाने के लिए सहयोग की काफी आवश्यकता पड़ेगी। हालांकि, ज्योतिरादित्य सिंधिया के फोन कॉल ने राज्य की सियासत गरमा दी है और कांग्रेस पार्टी को हमलावर होने का मौका दे दिया है।

jyotiraditya scindia and Shivraj

प्रदेश में विधायकों के इस्तीफे से खाली हुई सीटों पर छह महीने के अंदर चुनाव होने हैं। कांग्रेस से अलग होकर भाजपा में पहुंचे सिंधिया ने खुद अपने समर्थक विधायकों की जीत का बीड़ा उठाया है। वे कार्यकर्ताओं और नेताओं को फोन कर चुनाव के लिए तैयारी करने की ताकीद कर रहे हैं। सिंधिया ने सांवेर के एक कार्यकर्ता को फोन लगा कर कहा, मैं सिंधिया बोल रहा हूं। उपचुनावों के लिए अच्छे से तैयारी करना। घर में भी सबसे बता देना कि मैंने फोन किया था। इसके साथ ही लॉकडाउन का सही से पालन लोगों की सहायता करते रहने और साथ ही खुद को भी इस संक्रमण काल में सुरक्षित रखने की बात उन्होंने की।

Jyotiraditya Scindia

दरअसल, इंदौर जिले की सांवेर सीट से तुलसी सिलावट चुनाव जीते थे और फिलहाल शिवराज सिंह चौहान की कैबिनेट में मंत्री हैं। इससे पहले वे कमलनाथ के नेतृत्व वाली कमलनाथ सरकार में भी स्वास्थ्य मंत्री थे। सिंधिया समर्थक सिलावट ने कांग्रेस छोड़ने के बाद विधायक पद से इस्तीफा दिया था। मंत्री बने रहने के लिए उनका चुनाव जीतना जरूरी है। इसलिए, कोरोना की महामारी के बीच खुद सिंधिया ने उनकी जीत का बीड़ा उठा लिया है।

jyotiraditya scindhia

सिंधिया के फोन कॉल के बाद कांग्रेस उनके खिलाफ हमलावर हो गई है। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष के मीडिया प्रभारी नरेंद्र सलूजा ने ट्वीट कर कहा है कि यह समय महामारी से निपटने का है, लेकिन सिंधिया लोगों को फोन कर चुनाव जिताने की अपील कर रहे हैं। ऐसे माहौल में राजनीति करना ठीक नहीं है। इससे पता चलता है कि सिंधिया कैसे जनसेवक हैं।

jyotiraditya scindia

तुलसी सिलावट के लिए सांवेर की सीट बचाना उनकी राजनीतिक साख के लिए जरूरी है। कोरोना संकट काल में क्षेत्र के लोगों को मदद पहुंचाकर वे अपनी राजनीतिक जमीन मजबूत करने में लगे हैं। हालांकि, कांग्रेस भी इसमें पीछे नहीं है। पार्टी की मीडिया सेल के प्रभारी और पूर्व मंत्री जीतू पटवारी भी मैदान में उतर चुके हैं। जिला कांग्रेस कमिटी के जरिये वे भी सांवेर के रहवासियों को मदद पहुंचा रहे हैं।