दिखा रक्षामंत्री की मास्को यात्रा का असर, इतनी बड़ी डिफेंस डील को मिली मंजूरी, अब ड्रैगन क्या करेगा…

भारत के मित्र देशों में एक रूस की तरफ चीन का झुकाव भी इन दिनों कुछ ज्यादा ही बढ़ा है। लेकिन आज भारत और रूस के बीच जिस सौदे को मंजूरी मिली है उसके बाद से ड्रैगन की परेशानी और बढ़नेवाली है।

Written by: July 2, 2020 4:56 pm

नई दिल्ली। भारत और चीन के बीच जारी सीमा विवाद के बीच भारत और रूस के बीच बड़ी डिफेंस डील हुई है। चीन के साथ जहां एक तरफ LAC पर सीमा विवाद जारी है। गलवान में हुई खूनी झड़प के बाद दोनों देशों के बीच तनाव भी बड़ा हुआ है। भारत के मित्र देशों में एक रूस की तरफ चीन का झुकाव भी इन दिनों कुछ ज्यादा ही बढ़ा है। लेकिन आज भारत और रूस के बीच जिस सौदे को मंजूरी मिली है उसके बाद से ड्रैगन की परेशानी और बढ़नेवाली है।

Rajnath russia ind

हाल ही में रक्षामंत्री राजनाथ सिंह रूस के दौरे पर मास्को गए थे। उस समय उन्होंने भारत और रूस के बीच कुछ डिफेंस डील पर बात की थी। इसके साथ ही तभी यह भी सूचना मिली थी कि भारतीय सेना ने रूस से इन फाइटर प्लेन और हथियार की खरीद को लेकर सरकार से मांग की है। अब उसका असर साफ दिखने लगा है।

Putin modi china

इस बीच भारत ने रूस से 21 नए मिग-29 फाइटर प्लेन खरीदने का फैसला किया है। इसके अलावा मौजूदा 59 मिग 29 विमानों का अपग्रेडेशन किया जाएगा।

Sukhoi

इस सौदे के तहत भारत रूस से मिग-29 और सुखोई-30 लड़ाकू विमान खरीदेगा। जानकारी के मुताबिक 38 हजार 900 करोड़ के इस सौदे में रूस भारत को 21 मिग-29 लड़ाकू विमान उपलब्ध कराएगा साथ ही 12 सुखोई-30 लड़ाकू विमान भी भारत को मिलेंगे।

MIG-29

इतना ही नहीं मौजूदा मिग-29 विमानों को रूस अपग्रेड करके भी देगा। दोनों देशों के बीच होने वाली इस बड़ी और महत्वपूर्ण डील का फैसला डिफेंस एक्जिविशन काउंसिल ने लिया है।