भाजपा ने चीन के मामले पर कांग्रेस को घेरा, रविशंकर प्रसाद बोले राजीव गांधी फांउडेशन को ड्रैगन से मिलता रहा फंड

रविशंकर प्रसाद ने कहा कि कांग्रेस ने चीन के सामने घुटने टेक रखे थे। साथ ही उन्होंने ये भी कहा कि राजीव गांधी फांउडेशन से चीन को डोनेशन मिला।

Avatar Written by: June 25, 2020 4:59 pm

नई दिल्ली। भारत और चीन के मसले पर कांग्रेस और भारतीय जनता पार्टी के बीच जुबानी जंग चल रही है। लगातार बयानबाजी हो रही है और इस बीच गुरुवार को केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कांग्रेस पार्टी पर गंभीर आरोप लगाए। रविशंकर प्रसाद ने कहा कि कांग्रेस ने चीन के सामने घुटने टेक रखे थे। साथ ही उन्होंने ये भी कहा कि राजीव गांधी फांउडेशन से चीन को डोनेशन मिला। इसके साथ ही प्रसाद ने कांग्रेस से कई और सवाल पूछे।

rajiv-gandhi-foundation

बीजेपी की ओर रविशंकर प्रसाद ने आरोप लगाया कि चीन राजीव गांधी फांउडेशन को लगातार फंड मुहैया कराता रहा है। इस संबंध में उन्होंने कई दस्तावेजों का भी हवाला दिया।

Rahul Gandhi, Sonia Gandhi and Manmohan Singh

आपको बता दें कि राजीव गांधी फाउंडेशन की अध्यक्ष सोनिया गांधी हैं और इसके बोर्ड में डॉ. मनमोहन सिंह, राहुल गांधी, पी. चिदंबरम और प्रियंका गांधी हैं।

राजीव गांधी फाउंडेशन की वार्षिक रिपोर्ट (2005-06) में यह स्पष्ट है कि राजीव गांधी फाउंडेशन को पीपुल रिपब्लिक ऑफ चाइन के दूतावास से फंडिंग हुई। जानकारी के मुताबिक इस फंडिंग का नतीजा ये रहा कि राजीव गांधी फाउंडेशन ने भारत और चीन के बीच मुक्त व्यापार समझौते (एफटीए) के बारे में कई स्टडी की और इसे जरूरी बताया।

Ravi Shankar Prasad

भारत और चीन को लेकर राजीव गांधी फाउंडेशन की स्टडी के नतीजे भी चौंकानेवाले थे। इसमें साफ तौर पर कहा गया कि चीन से ज्यादा भारत को मुक्त व्यापार समझौते की जरूरत है और भारत को दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय संबंधों में सुधार के प्रयास के तौर पर इसे लागू करना चाहिए । ऐसा तब कहा जा रहा था जबकि चीन असंतुलित व्यापार की वजह पहले से ही भारत की तुलना बहुत अधिक फायदे में था।

भाजपा ने सवाल उठाया कि क्या राजीव गांधी फाउंडेशन के लिए की फंडिंग का इससे कुछ संबंध है? साथ ही यह सवाल उठना भी स्वभाविक है कि कहीं चीन के साथ एफटीए के लिए यह लॉबिंग तो नहीं ? व्यापार घाटे को 2003-04 और 2013-14 के बीच 33 गुना करने की अनुमति है? क्या इस फंडिंग का 2008 में कांग्रेस पार्टी और चीनी कम्युनिस्ट पार्टी (CCP) के बीच समझौते का कोई संबंध है? CCP के साथ अपने संबंधों पर कांग्रेस पार्टी भारत से कौन सी अन्य बातें छिपा रही है?