Connect with us

देश

PFI Banned: PFI पर प्रतिबंध को बीजेपी के नेताओं और मंत्रियों ने बताया जरूरी, कांग्रेस बोली- RSS पर भी लगे बैन

कट्टरपंथी इस्लामी संगठन पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया PFI पर 5 साल का बैन केंद्र सरकार ने लगाया है। इसका बीजेपी के नेताओं और केंद्रीय मंत्रियों ने स्वागत किया है। वहीं, इस बैन के बाद विपक्षी कांग्रेस की तरफ से आरएसएस पर बैन लगाने की मांग भी उठ रही है। कांग्रेस के इस बयान पर अब सियासत गरमाने के पूरे आसार दिख रहे हैं।

Published

on

pfi flag

नई दिल्ली। कट्टरपंथी इस्लामी संगठन पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया PFI पर 5 साल का बैन केंद्र सरकार ने लगाया है। इसका बीजेपी के नेताओं और केंद्रीय मंत्रियों ने स्वागत किया है। वहीं, इस बैन के बाद विपक्षी कांग्रेस की तरफ से आरएसएस पर बैन लगाने की मांग भी उठ रही है। केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने जहां पीएफआई पर बैन के बाद ट्विटर पर ‘बाय-बाय’ लिखा, वहीं, बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव अरुण सिंह ने इसे जरूरी कदम बताया। असम के सीएम हिमंत बिस्व सरमा, कर्नाटक के सीएम बासवराज बोम्मई और यूपी के दोनों डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्या ने पीएफआई पर प्रतिबंध का स्वागत किया। बीजेपी के राष्ट्रीय प्रवक्ता शहजाद पूनावाला ने भी इस प्रतिबंध को अहम कदम बताया। बीजेपी के नेताओं और मंत्रियों ने किस तरह खुशी जाहिर की, ये आप नीचे देख सकते हैं।

वहीं, कांग्रेस की तरफ से अब राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ RSS पर बैन की मांग उठने लगी है। दो दिन पहले ही कांग्रेस के दिग्गज नेता दिग्विजय सिंह ने आरएसएस पर बैन की मांग की थी। आज पीएफआई पर बैन लगने के बाद कांग्रेस के एक और बड़े नेता कोड्डिकुनिल सुरेश ने ये मांग रख दी है।

बता दें कि देशविरोधी गतिविधियों, दंगों की साजिश और भारत को इस्लामी राष्ट्र बनाने की योजना का खुलासा होने पर पीएफआई के नेताओं, उसके ठिकानों पर राष्ट्रीय जांच एजेंसी NIA, प्रवर्तन निदेशालय ED और कई राज्यों की पुलिस ने संयुक्त रूप से 22 और 27 सितंबर को छापेमारी की थी। इन छापों में पीएफआई के बड़े नेताओं समेत 200 से ज्यादा लोगों को गिरफ्तार किया गया। संगठन के खिलाफ पुख्ता सबूत हासिल होने पर केंद्र सरकार ने पीएफआई और उसके सहयोगी संगठनों को बैन करने का एलान किया है।

pfi banned main

Advertisement
Advertisement
Advertisement