खौफ के साये में चीन, अमेरिका से समझौते के लिए लगाने लगा गुहार

अमेरिका और चीन के बीच वैश्विक महामारी कोरोनावायरस को लेकर शुरू हुआ विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है। दोनों ही देशों की तरफ से लगातार जुबानी जंग चल रही है।

Written by: May 15, 2020 7:34 pm

वॉशिंगटन। अमेरिका और चीन के बीच वैश्विक महामारी कोरोनावायरस को लेकर शुरू हुआ विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है। दोनों ही देशों की तरफ से लगातार जुबानी जंग चल रही है। इसके साथ ही पहले से अघोषित व्यापारिक युद्ध लड़ रहे दोनों देशों के रिश्ते के बीच इस नए वैश्विक संकट ने खाई बना दी है। इस बीच चीन लगातार अमेरिका के सा संबंध बेहतर बनाने के प्रयास कर रहा है।

इसी के चलते चीन ने शुक्रवार को अमेरिका से समझौता करने और कोरोना महामारी के खिलाफ लड़ाई में पूरा सहयोग देने की बात कही है। चीन का यह बयान ट्रम्प की धमकी के बाद आया है। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने गुरुवार को कहा था कि वे चीन से सभी रिश्ते खत्म कर सकते हैं।

दुनिया की दो बड़ी अर्थव्यवस्थाओं की बीच संबंध कुछ हफ्तों में ज्यादा खराब हुए हैं। कोरोना महामारी आने के बाद अमेरिका चीन पर लगातार दुनिया को धोखे में रखने और वुहान की लैब से वायरस निकलने का आरोप लगाता रहा है।

चीन ने कहा- हमें मिलकर महामारी को हराना होगा

चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लिजियन ने एक प्रेस ब्रीफिंग में कहा, ‘‘चीन-अमेरिका संबंधों के विकास को बनाए रखना दोनों देशों में लोगों के बुनियादी हितों में है और यह दुनिया में शांति और स्थिरता के लिए भी जरूरी है। वर्तमान में चीन और अमेरिका को महामारी के खिलाफ मजबूत सहयोग बनाए रखना चाहिए। जितनी जल्दी हो सके, मरीजों को ठीक करना चाहिए और इकोनॉमी-प्रोडक्शन को फिर से पटरी पर लाना चाहिए। यह तभी मुमकिन होगा, जब अमेरिका, चीन से समझौता करेगा।’’

ट्रम्प ने सभी रिश्ते खत्म करने की धमकी दी थी

ट्रम्प ने गुरुवार को चेतावनी देते हुए कहा था कि अमेरिका, चीन के साथ सभी संबंध खत्म कर सकता है। फॉक्स न्यूज को दिए इंटरव्यू में उनसे पूछा गया कि अमेरिका किस तरह से चीन को जवाब देगा तो उन्होंने कहा, ‘‘हम कई चीजें कर सकते हैं। हम चीन से सभी रिश्ते खत्म कर सकते हैं।’’ उन्होने कहा था कि अगर हम सभी रिश्ते खत्म कर दें तो हम 500 बिलियन डॉलर बचा सकते हैं। उन्होंने कहा था कि शी जिनपिंग से उनके रिश्ते बहुत अच्छे हैं, लेकिन मैं अभी उनसे बात नहीं करना चाहता।’’