Ram Mandir: लेखिका तस्लीमा नसरीन की अपील- अयोध्‍या में ‘राम मंदिर’ के लिए धन जुटाने में मुसलमान भी आएं आगे

Ram Mandir: तस्लीमा नसरीन (Taslima Nasreen) ने इस बार अयोध्या (Ayodhya) में बन रहे राम मंदिर को लेकर बयान दिया है और मुस्लिम लोगों से अपील की है कि भारत में बन रहे इस मंदिर के लिए धन जुटाने के काम में वह भी आगे आएं और बढ़ चढ़कर इसमें हिस्सा लें।

Avatar Written by: January 18, 2021 7:15 pm
Taslima Nasreen

नई दिल्ली। अपनी किताबों को लेकर विवादों में घिरी और अपने देश से अलग भारत में रह रही लेखिका तस्लीमा नसरीन ने भारत में रह रहे मुसलमानों से राम मंदिर निर्माण को लेकर जो कहा है उसके बाद से इस पर चर्चा तेज हो गई है। तस्लीमा नसरीन लगातार अपने बयानों की वजह से विवादों में रहती हैं और इसकी वजह से उनका जमकर विरोध भी होता रहता है। लेकिन इस बार बांग्लादेश मूल की अंतर्राष्ट्रीय लेखिका तसलीमा नसरीन ने जो बयान दिया है उससे विवाद नहीं बढ़ा बल्कि उनके इस बयान पर लोग चर्चा के मूड में नजर आ रहे हैं।

तस्लीमा नसरीन ने इस बार अयोध्या में बन रहे राम मंदिर को लेकर बयान दिया है और मुस्लिम लोगों से अपील की है कि भारत में बन रहे इस मंदिर के लिए धन जुटाने के काम में वह भी आगे आएं और बढ़ चढ़कर इसमें हिस्सा लें।

ram mandir FI

आपको बता दें कि इससे पहले जब नबंवर 2019 में राम मंदिर को लेकर सुप्रीम कोर्ट का फैसला आया था और इसमें मुसलमानों को 5 एकड़ जमीन दिए जाने का आदेश दिया गया था तब तस्लीमा ने सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले पर सवाल उठाया था। उन्होंने तब कहा था कि अयोध्या में हिंदुओं जितनी जमीन राम मंदिर निर्माण के लिए दी गई उतनी ही जमीन मुसलमानों को भी मिलनी चाहिए जबकि कोर्ट ने मुसलमानों को पांच एकड़ ज़मीन दी थी। तब तस्लीमा नसरीन ने कहा था कि दोनों की जमीनों पर स्कूल और अस्पताल बनवा देना चाहिए था। अगर वह जज होती तों वह ऐसा ही फैसला देतीं।


लेकिन इस बार उन्होंने ट्विटर पर लिखा है कि ‘अयोध्या में राम मंदिर के लिए कई मुसलमान वीएचपी के अभियान में दान दे रहे हैं। मुसलमानों को मंदिर के लिए धन जुटाने के लिए आगे आना चाहिए…

ram mandir New model picture

इससे पहले तसलीमा नसरीन ने राम मंदिर के निर्माण को लेकर कहा था कि अगर भारत के अधिकांश हिंदू चाहते हैं कि राम मंदिर का निर्माण हो तो इसे बनने देना चाहिए। हिंदूओं को भी मुसलमानों की तरह धार्मिक और कट्टरपंथी होने का पूरा अधिकार है, उन्‍होंने यह भी कहा था कि यदि आप एक हिंदू हैं तो आपको धर्मनिरपेक्ष होना चाहिए, यह आवश्यक नहीं है।

Support Newsroompost
Support Newsroompost