Connect with us

देश

Mukhtar Ansari Ed Raid: बाहुबली मुख्तार अंसारी पर बड़ी कार्रवाई, गाजीपुर में करीबियों के घर ED की ताबड़तोड़ छापेमारी

Published

on

MUKHTAR ABBAS ANSARI

नई दिल्ली। उत्तर प्रदेश में दोबारा सत्ता वापसी के साथ ही योगी आदित्यनाथ का अपराधियों और माफियाओं पर एक्शन और तेज हो गया है। इसी क्रम में अब मुख्तार अंसारी और उनके करीबियों पर ताबड़तोड़ कार्रवाई जारी है। आज गुरुवार, 18 अगस्त को गाजीपुर से एक बड़ी खबर सामने आ रही है। मिली जानकारी के मुताबिक, मुख्तार अंसारी के पैतृक आवास के साथ ही उनके 3 करीबियों के आवास पर प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) का डंडा चला है। ED ने एक साथ इन जगहों पर छापा मारा है। सभी जगह ईडी की कार्रवाई अभी चल रही है।

Enforcement Directorate

कहा जा रहा है कि ईडी की टीम गुरुवार सुबह ही मुहम्मदाबाद स्थित मुख्तार अंसारी के घर पहुंची और जांच शुरू कर दी। वहीं, ईडी टीम ने विक्रम अग्रहरि, गणेश मिश्रा, खान बस सर्विस के मालिक के ठिकानों पर भी दस्तक दी है। कहा ये भी जा रहा है कि ईडी की कई टीमें छापेमारी अभियान में जुटकर काम कर रही हैं। प्रवर्तन निदेशालय ने दिल्ली, लखनऊ, गाजीपुर और मऊ में मुख्तार अंसारी के साथ ही उसके करीबियों के कई ठिकानों को भी अपने जांच दायरे में लिया है।

पंजाब में मुख्तार को मिला था VVIP ट्रीटमेंट

आपको बता दें कि इससे पहले मुख्तार अंसारी को लेकर बड़ा खुलासा हुआ है।  हाल ही में पंजाब की आप सरकार ने मुख्तार अंसारी के रूपनगर जेल में बंद होने पर VVIP ट्रीटमेंट देने के आरोप में जांच का आदेश दिया था। वहीं, जांच में ये खुलासा हुआ है कि राज्य की तत्कालीन कांग्रेस सरकार ने अंसारी के मामले में सुप्रीम कोर्ट में केस लड़ने के लिए वकील को लगाया था। इतना ही नहीं उस वकील पर हर सुनवाई के लिए 11 लाख रूपए भी खर्च किए जाते थे। जिसके हिसाब से उस वकील पर कुल 55 लाख रुपये खर्ज किए गए। वकील की तरफ से सुनवाई न होने के दिन पर भी 5 लाख रुपए चार्ज मांगा जाता था। हालांकि पंजाब की नई बनी आप सरकार ने वकील के इन बिलों का भुगतान करने से इनकार कर दिया है।

don mukhtar ansari and wife

‘मुख्तार के साथ पत्नी भी रहीं जेल में’

जांच में और भी कई चौंकाने वाले खुलासे हुए हैं। पंजाब के जेल मंत्री हरजोत बैन्स ने कहा, ‘हम इन बिलों का भुगतान क्यों करें, जिन्हें गैंगस्टर को बचाने में खर्च किया गया है’। इसके साथ ही उन्होंने ये भी बताया कि हमारी तरफ से इस मामले में FIR दर्ज करने की भी मांग की गई है। बताया जा रहा है जांच में ये बात भी सामने आई है कि बैरक में मुख्तार अंसारी को फाइव स्टार जैसी सुविधाएं दी जा रही थीं। जहां 25 कैदियों को रखने की व्यवस्था थी, उसे अंसारी के लिए खाली करवा दिया गया था। यहां तक की अंसारी की पत्नी को भी वहां रहने की इजाजत दी गई थी।

Advertisement
Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Advertisement
Advertisement