वेस्ट यूपी को जेएनयू-जामिया में 10% आरक्षण दे दो, सबका इलाज कर देंगे : संजीव बालियान

संजीव बालियान ने कहा कि पाकिस्तान के जो शरणार्थी यहां आए हुए हैं उनसे मेरी बात हुई तो मुझे पता चला कि वहां उन पर कैसे जुल्म हुए। बेटियों बहनों को जबरन उठा लिया जाता है।

Written by: January 23, 2020 2:06 pm

नई दिल्ली। अक्सर अपने बयानों से चर्चा में रहने वाले केंद्रीय मंत्री संजीव बालियान ने जेएनयू, जामिया जैसे संस्थानों को लेकर ऐसा बयान दिया है, जिसके बाद से वो फिर से सुर्खियों में छा गए हैं। आपको बता दें कि नागरिकता संशोधन कानून के समर्थन में यूपी के मेरठ में हुई एक रैली में संजीव बालियान ने JNU, जामिया जैसे संस्थानों में पश्चिमी यूपी को 10 फीसदी आरक्षण देने की बात कही है।

Sanjuv Baliyan Meerut

बालियान ने कहा कि “जेएनयू और जामिया में जिने छात्र पढ़ते हैं उससे अधिक छात्र तो मेरठ कॉलेज में सीएए का समर्थन कर रहे हैं। पश्चिम के छात्रों को राजनाथ सिंह जी 10 फीसदी रिजर्वेशन दिला दीजिए, जामिया जेएनयू का इलाज कर देंगे।” गौरतलब है कि जिस वक्त संजीव बालियान ये बयान दे रहे उस वक्त रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह भी वहीं मौजूद थे।

JNU

संजीव बालियान ने कहा कि पाकिस्तान के जो शरणार्थी यहां आए हुए हैं उनसे मेरी बात हुई तो मुझे पता चला कि वहां उन पर कैसे जुल्म हुए। बेटियों बहनों को जबरन उठा लिया जाता है। ऐसे जुल्म सहने वालों को सरकार नागरिकता दे रही है तो इसका विरोध किया जा रहा है।

उन्होंने कहा, जब देश आजाद हुआ था तो सात करोड़ मुसलमान थे। अब 20 प्रतिशत हैं और पश्चिमी यूपी में 50 प्रतिशत हैं। वहां हिंदू कम हुए लेकिन यहां मुसलमान बढ़े। अंतर बहुत बड़ा है, आप अपने आप देख लें। रक्षा मंत्री से बालियान ने कहा, राजनाथ जी आप 10 प्रतिशत आरक्षण की व्यवस्था कर दो, इनका इलाज कर देंगे और किसी की जरूरत नहीं पड़ेगी। ये लोग देश विरोधी नारेबाजी नहीं कर पाएंगे।

Rajnath Singh Meerut

वहीं बीजेपी की ओर से आयोजित सीएए समर्थित इस रैली में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि किसी भी भारतीय मुसलमान को कोई छू तक नहीं पाएगा और उन्होंने इस आशंकाओं को नकारा कि अगर एनपीआर और एनआरसी को लाया जाता है तो समुदाय को निशाना बनाया जाएगा। उन्होंने कहा, ”हम सरकार नहीं, बल्कि देश बनाने के लिए राजनीति करते हैं।