Saturday, November 25, 2017

अद्वितीय है भारतीय भौतिकवाद

भारतीय भौतिकवाद अद्वितीय है। विदेशी विद्वानों ने भारतीय भौतिकवाद की उपेक्षा की है। ऋग्वेद प्रत्यक्ष भौतिकवाद के वैज्ञानिक सूत्रों से भरापूरा है। वैदिक पूर्वज...

पारंपरिक गीतों के बिना अधूरा है सूर्योपासना का व्रत छठ

पटना। सूर्योपासना और लोकआस्था के महापर्व छठ की कल्पना कर्णप्रिय और सुमधुर गीत के बिना नहीं की जा सकती। इन पारंपरिक गीतों के जरिए...

छठ महापर्व पर विशेषः ऋग्वेद में भी है इस पावन पर्व की चर्चा

बिहार में भगवान भास्कर की उपासना और लोकआस्था के पर्व छठ की तैयारियां अंतिम चरण में है। भक्तों की अटल आस्था का अनूठा पर्व...

उत्तर प्रदेश का उत्तरकाण्ड अनूठा है

भारत का मन अवधपुरी में रमता है। यह अयोध्या है। इसे पराजित नहीं किया जा सकता। मधु समृद्ध है यह नगरी। भारत के मन...

अस्तित्व ‘ज्योर्ति एकं’ है

प्रकाश सनातन अभीप्सा है। हम भारतीय अनंतकाल से प्रकाशप्रिय हैं। मन प्रश्नाकुल है। आखिरकार प्रकाश ज्योति की अतृप्त अभिलाषा का मूल कारण क्या है?...

भाषा बोली में समाया हुआ है पूरा संसार

संसार दो तरह का। एक संसार प्रत्यक्ष है। यहां रूप हैं। लाखों जीव हैं। इसके साथ सूर्य, चन्द्र, धरती, जल, अग्नि और आकाश भी...

संसार के शोध और स्वयं के बोध का अनुष्ठान है शिक्षा

प्रकृति प्रतिपल विकासमान है। प्रतिक्षण नई। प्रकृति में पुनर्नवा चेतना है। वह अपना सर्वोत्तम प्रकट करने में संलग्न रहती है। हम सब मनुष्य प्रकृति...

यूएन में आतंकवाद पर पाकिस्तान को घेरने की सुषमा स्वराज की कूटनीतिक मुहिम कामयाब

संयुक्त राष्ट्र महासभा में विदेश मंत्री सुषमा स्वराज द्वारा आतंकवाद को लेकर पाकिस्तान को कठघरे में खड़ा करने वाले संबोधन को महज एक भाषण...

क्यों कहा गया भारत को इंडिया?

भारत का राष्ट्रधर्म है संविधान। इसका स्वीकार, आदर और परिपालन हम भारत के लोगों का प्रथम कर्तव्य है। हम भारत के लोगों ने ही...

श्रद्धा भाव है और श्राद्ध कर्म

श्रद्धा भाव है और श्राद्ध कर्म। श्रद्धा मन का प्रसाद है और प्रसाद आंतरिक पुलक। पतंजलि ने श्रद्धा को चित्त की स्थिरिता या अक्षोभ...

ताजा खबरें