Uniform civil code

सरकार के गठन के बाद जिस तरह से ताबड़तोड़ फैसले लिए गए उसने एक साल के मोदी सरकार 2.0 के कार्यकाल में नरेंद्र मोदी की लोकप्रियता का ग्राफ और ऊंचा कर दिया।

फ़िरोज़ बख़्त अहमद की बात करें तो वो, एक स्तंभकार, शिक्षाविद, राजनीतिक विश्लेषक के रूप में जाने जाते हैं। अहमद के दादा स्वतंत्रता सेनानी और देश के पहले शिक्षा मंत्री मौलाना अबुल कलाम आज़ाद थे।

बिहार में सोमवार को लोकसभा चुनाव के चौथे चरण की वोटिंग होनी है, लेकिन अब तक नीतीश कुमार की पार्टी जनता दल यूनाइटेड ने अपना घोषणापत्र जारी नहीं किया है। सूत्रों की मानें तो अनुच्छेद 370, अनुच्छेद 35A, समान नागरिक संहिता और राम मंदिर के मुद्दे को लेकर बीजेपी और जेडीयू के बीच में मतभेद है।

नई दिल्ली। विधि आयोग का कहना है कि फिलहाल भारत में समान नागरिक संहिता (यूसीसी) की जरूरत नहीं है। आयोग...