BSP

हालांकि पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री और तृणमूल कांग्रेस की अध्यक्ष ममता बनर्जी ने बैठक में शामिल होने से इंकार कर दिया है। इनके अलावा उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री और बहुजन समाज पार्टी (बसपा) सुप्रीमो मायावती ने भी बैठक में शामिल होने की पुष्टि नहीं की है। 

बसपा सुप्रीमो ने कहा, "कांग्रेस की नेता उत्तर प्रदेश में तो आए दिन यहां घड़ियालू आंसू बहाने आ जाती हैं। लेकिन राजस्थान में कल (शुक्रवार को) वह अपने निजी कार्यक्रम के दौरान अपना थोड़ा सा भी समय कोटा में उन बच्चों की मांओं के आंसू पोंछने के लिए निकालना उचित नहीं समझती हैं, जबकि वह भी एक मां हैं, यह अति-दुर्भाग्यपूर्ण है।"

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी की उत्तर प्रदेश में बढ़ रही सक्रियता समाजवादी पार्टी (सपा), बहुजन समाज पार्टी (बसपा) को खटकने लगी है। नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के विरोध के अलावा प्रदेश में हुई अन्य घटनाओं में प्रियंका ने न केवल बढ़चढ़ कर भाग लिया, बल्कि सपा बसपा को मात दे दी।

मध्य प्रदेश के दमोह में बीएसपी की विधायक ने नागरिकता कानून का समर्थन कर दिया। इसके बाद सरकार के भीतर हड़कंप मच गया।

मेरठ के सिटी एसपी के बयान पर अब भाजपा भी सख्त होने लगी है। एसपी के बयान की चौतरफा निंदा होते देख अब भाजपा नेता भी उसकी निंदा करने लगे हैं। भाजपा नेता और केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने सिटी एसपी के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है।

इस मामले पर मायावती ने कहा कि बसपा एक अनुशासित पार्टी है। इसका अनुशासन तोड़ने पर तुरन्त कार्रवाई की जाती है। उन्होंने रमाबाई के पार्टी के कार्यक्रमों में भी भाग लेने पर रोक लगा दी है। मायावती ने इस विषय पर दो ट्वीट किए हैं।

बहुजन समाजवादी पार्टी (BSP) प्रमुख मायावती ने भीम आर्मी प्रमुख चंद्रशेखर पर हमला बोलते हुए ट्वीट के जरिए उन्हें षड्यंत्रकारी बताया है।

बहुजन समाज पार्टी (बसपा) की अध्यक्ष मायावती ने गुरुवार को राजधानी लखनऊ और संभल में हुए हिंसक विरोध प्रदर्शन पर बिना किसी का नाम लिए समाजवादी पार्टी (सपा) और कांग्रेस पर हमला बोला है। उन्होंने कहा है कि किसी भी विरोध प्रदर्शन या धरने में हिंसा के लिए कोई जगह नहीं है।

कांग्रेस पर निशाना साधते हुए माायावती ने एक से ज्यादा ट्वीट कर डाले। उन्होंने अपने ट्वीट में कहा कि, "शिवसेना अपने मूल एजेण्डे पर अभी भी कायम है, इसलिए इन्होंने नागरिकता संशोधन बिल पर केन्द्र सरकार का साथ दिया और अब सावरकर को भी लेकर इनको कांग्रेस का रवैया बर्दाश्त नहीं है।"

यूपी में समाजवादी पार्टी अब नई राह पकड़ती नजर आ रही है। वोट की खातिर सपा की ओर से अब दलितों को लुभाने की कोशिश शुरू हो गई है। समाजवादी पार्टी पहली बार बाबा साहेब भीमराव आंबेडकर का परिनिर्वाण दिवस बड़े पैमाने पर मनाएगी।